Home Blog

1 मई से 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को लगेगी कोरोना वैक्सीन: पीएम

0

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। अब एक मई से 18 साल से ऊपर के सभी लोग कोरोना वैक्सीन लगवा सकेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को हुई एक अहम बैठक में यह फैसला लिया गया। बैठक के बाद भारत सरकार ने एक मई से कोरोना वैक्सीनेशन के तीसरे चरण के रणनीति की घोषणा की। जिसके मुताबिक 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोग वैक्सीन लगवा सकते हैं।
सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, “18 साल से सभी उम्र के लोगों को Covid-19 का वैक्सीन लगाया जाएगा।” इसमें कहा गया है कि वैक्सीन का प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए कंपनियों को इंसेंटिव दिया जाएगा। इसके साथ ही नए नेशनल और इंटरनेशनल कंपनियों को भी वैक्सीन के निर्माण के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
18 साल से ज्यादा के उम्र के लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने को लेकर सरकार की तरफ से कहा गया है कि इसले लेकर जल्द ही प्रोटोकॉल के बारे में जानकारी दी जाएगी। इन लोगों को वैक्सीन के लिए कीमत चुकानी होगी या नहीं इसपर सरकार जल्द  ही जानकारी शेयर करेगी। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले एक साल से सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि देश में अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन की डोज दी जाए। बता दें कि अभी तक 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन लगवाने की इजाजत दी गई थी।

नीतीश कैबिनेट में 9 एजेंडों पर लगी मुहर, अतिथि गृहों में 151 रसोईया की होगी बहाली

0

पटना: बिहार में कोरोना संकट के बीच सीएम नीतीश कुमार ने सोमवार को कैबिनेट की बैठक बुलाई थी। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित कैबिनेट मीटिंग में सभी मंत्री वर्चुअल माध्यम से जुड़े। सभी मंत्री विभागीय सचिव के कक्ष से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में शामिल हुए। आज की बैठक में करीब 250 पदों के सृजन की स्वीकृति दी गई है। गृह विभाग ने 96 पद वहीं सामान्य प्रशासन विभाग ने 151 पदों का सृजन किया है।
नालंदा के राजगीर में नेचर सफारी ओपी का सृजन एवं उसके संचालन के लिए 96 पदों के सृजन की स्वीकृति दी गई है। बिहार प्रशासनिक सेवा के वरीय उप समाहर्ता नरेंद्र नाथ को सेवा से बर्खास्त किया गया है। बिहार आकस्मिक निधि के अस्थाई कार्य जो साढ़े 300 करोड़ के हैं को 30 मार्च 2022 तक के लिए अस्थाई रूप से बढ़ाकर 8732 करोड़ 10 लाख रुपए किया गया है।सामान्य प्रशासन विभाग के प्रशासनिक नियंत्रण अधीन सभी जिलों में अवस्थित सरकारी अतिथि गृहों के सुगम संचालन के लिए परिचारी रसोईया के 151 पदों के सृजन की स्वीकृति दी गई है।यानी सरकारी गेस्ट हाऊस में अब रसोईयों की बहाली होगी।युवाओं में स्वरोजगार को बढ़ावा देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की स्वीकृति के साथ वित्तीय वर्ष 2021-22 में इस योजना हेतु 200 करोड़ की स्वीकृति दी गई है।महिलाओं के बीच स्वरोजगार को बढ़ावा देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना की स्वीकृति के साथ वित्तीय वर्ष 2021-22 में इस योजना हेतु 200 करोड रुपए की स्वीकृति दी गई है। वित्तीय वर्ष 2021-22 मई राज्य सरकार द्वारा 30702 करोड़ रूपए बाजार रेट सहित 36273।43 करोड़ रूपए की सकल ऋण उगाही तथा 27179 करोड रुपए के नेट ऋण उगाही की स्वीकृति दी गई है।वाहनों के मनपसंद निबंधन संख्या को वाहन विक्रेता द्वारा अधिक से अधिक बिक्री हेतु प्रोत्साहित करने एवं निश्चित संख्या में बिक्री कराए जाने पर प्रोत्साहन राशि दिए जाने हेतु बिहार मोटर गाड़ी नियमावली 1992 के नियम 64 के उपनियम 4 को प्रतिस्थापित किया गया है। मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति, अति पिछड़ा वर्ग उद्यमी योजना की स्वीकृति संबंधी निर्गत संकल्प में संशोधन का प्रस्ताव पास किया गया है।

बिहार में रात 9 से सुबह पांच बजे तक नाइट कर्फ्यू, 15 मई तक स्कूल-कोचिंग बंद

0

पटना। बिहार में बढ़ते कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए मुख्यमंत्री ने कई फैसला लिया हैं।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सभी जिलों के डीएम और एसपी के साथ बैठक के बाद बिहार में रात नौ बजे सुबह पांच बजे तक नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया है। वहीं स्कूल और कोचिंग संस्थान 15 मई तक बंद रहेंगे। साथ ही दुकानें अब शाम छह बजे तक ही खुलेंगी। जिलों के डीएम और एसपी के साथ बैठक के बाद नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा। सभी स्कूल और कोचिंग संस्थान को 15 मई तक बंद रहेंगे। राज्य में दुकानें शाम सात बजे की बजाए छह बजे तक ही खुलेंगी। नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य में डेडिकेटेड हेल्थ सेंटर बनाए जाएंगे। कोरोना की जांच रिपोर्ट पहले उपलब्ध करा दी जाएगी। साथ ही अस्पतालों में आक्सीजन मुहैया कराई जाएगी। होम आइसोलेशन में रहने वालों की मॉनटरिंग की जाएगी। अनुमंडलों में आइसोलेशन सेंटर बनाए जाएंगे। 

कैमूर के नवोदय विद्यालय के प्रिंसिपल की कोरोना से मौत,13 और संक्रमित

0

पटना । कोरोना का प्रकोप देश में तो बर्बादी का मंजर दिखा ही रहा है,साथ ही साथ तमाम राज्यो में भी स्थिति हर बीतते घण्टे के साथ बिगड़ती दिख रही है। ऐसा ही कुछ हाल बिहार का भी है। लेकिन हालात के मद्दे नज़र सूबे की सुशासन सरकार लगातार बड़े बड़े दावे कर रही है। लेकिन जमीनी हक़ीक़त कितनी स्याह है इसका अंदाज़ा मौत और संक्रमितों की बहती सख्या ही बता रहा है। इसी कड़ी में कैमूर जिला के रामगढ़ प्रखंड के चौरसिया में स्थित नवोदय विद्यालय के प्रिंसिपल की कोरोना संक्रमण होने के कारण मौत हो गई है। विद्यालय प्रशासन ने बताया कि स्कूल के प्रिंसिपल कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद 13 अप्रैल से ही बीएचयू में एडमिट थे। रविवार सुबह 6 बजे इलाजरत प्रिंसिपल साहब की मौत हो गई।मृतक मुलनरूप से मध्यप्रदेश के रीवा जिले के रहने वाले थे। प्रधानाध्यापक के मौत के बाद जिला प्रशासन तथा नोवोदय विद्यालय में हड़कंप मच गया है। विद्यालय में कई परिजन अपने बच्चों को घर लेजाने के लिये पहुँच गए हैं।
इस घटना से इलाके में कोहराम मचा हुआ है। वही छात्रों और अन्य लोगों में कोरोना का संक्रमण मिलने से जिला प्रशासन हरकत में आ गया है। इसे लेकर जिला प्रशासन द्वारा संक्रमित मरीजों के इलाज की व्यवस्था की गयी है। बिहार में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है कोरोना के इस कहर से आमलोग खासे परेशान हैं।

बिहार में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देख बड़ा निर्णय: सभी संग्रहालय, पुरातत्विक स्थल, स्टेडियम व जिम बंद

0

बिहार बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार ने राज्य के सभी संग्रहालय, पुरातात्विक स्थल, स्मारक आदि को तत्काल प्रभाव से 15 मई तक के लिए बंद कर दिया गया है। इन स्थलों पर दर्शकों को प्रवेश नहीं मिलेगा। कला संस्कृति एवं युवा विभाग ने इस बाबत शुक्रवार को निर्देश जारी कर दिया। इसके अलावा सभी इनडोर और आउटडोर स्टेडियम, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, स्विमिंग पूल, जिम सेंटर आदि को 16 मई तक के लिए बंद कर दिया है। इस दौरान मैदान या किसी भी जगह खेल व अन्य प्रशिक्षण कार्यक्रमों के आयोजन की मनाही होगी।

पूर्व मध्य रेलवे प्रवासी मजदूरों को अपनी संचालित परियोजनाओं में मुहैया कराएगा रोजगार, बिहार सरकार से पहल का किया अनुरोध

0

 दिल्ली मुंबई पंजाब से प्रतिदिन 10, हजार से अधिक प्रवासी मजदूर लौट रहे बिहार

  • कोरोना संक्रमण काल में केंद्र और बिहार की तरह और रेलवे भी देगी प्रवासी मजदूरों को रोजगार
  • रेल प्रशासन ने जिला प्रशासन से प्रवासी मजदूरों की मांगी  सूची
  • अक्टूबर 2020 रेलवे मनरेगा के तहत चल रहे कार्यों में 1150 मजदूरों को समस्तीपुर डिवीजन ने दिया था रोजगार
  • नीरज/पटना।  पूर्व मध्य रेलवे अंतर्गत जिन क्षेत्रों में रेलवे का कार्य चल रहा है उसके समीप बसे गांव में प्रवासी मजदूरों को रोजगार दिया जाएगा इसके लिए खास तौर पर कांट्रेक्टर को निर्देश दिया गया है चल रहे परियोजनाओं में आस-पास के गांव में जाकर प्रवासी मजदूरों को रोजगार के लिए जागरूक करें इस संदर्भ में रेलवे ने जिला प्रशासन से भी बातचीत करेगी।दिल्ली महाराष्ट्र पंजाब सहित अन्य छह प्रदेशों में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के बाद प्रवासी मजदूरों का बिहार लौटने का सिलसिला लगातार जारी है। एक आंकड़े के मुताबिक रोजाना करीब 10, हजार से अधिक प्रवासी मजदूर लौट रहे हैं पूर्व मध्य रेलवे भी दिल्ली महाराष्ट्र और पंजाब के लिए करीब 20 से अधिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन कर रही है कोरोना संक्रमण काल में प्रवासी मजदूरों को रोजगार के लिए दिक्कत ना हो केंद्र और बिहार की तरह अब रेलवे भी काम देगी रेलवे के सभी योजनाओं में अब प्रवासी मजदूरों को रोजगार दिया जाएगा रेलवे बोर्ड ने इसके लिए हामी कर दी है अब दूसरे प्रदेशों से लौटे बिहार में सबसे प्रवासी मजदूरों को रोजगार मिलेगा रेलवे ने इसके लिए एक गाइडलाइन जारी किया है इसके तहत जिन क्षेत्रों में रेलवे का कार्य चल रहा हैनिकटतम गांव के प्रवासी मजदूरों को रोजगार दिया जाएगा रेलवे ने बिहार सरकार से इसके लिए पहले भी की है बता दें कि कोरोना संक्रमण के चलते 22 मार्च 2020 को लॉकडाउन लगाया गया था इसके बाद दूसरे प्रदेशों से लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर बिहार लौटने लगे रेलवे ने बिहार सरकार की पहल पर मजदूरों को सुरक्षित लाने के लिए कई स्पेशल ट्रेनों का परिचालन भी किया अक्टूबर 2020 में समस्तीपुर डिविजन रेलवे में चल रहे मनरेगा के कार्यो में 1150 प्रवासी मजदूरों को रोजगार दिया था।बता दें कि पूर्व मध्य रेलवे अंतर्गत सराय गढ़ से निर्मली झंझारपुर के बीच रेलवे के कई कार्य चल रहे हैं वहीं राघवपुर से ललित ग्राम ललित ग्राम से फारबिसगंज तक के बीच ट्रैक लिंकिंग और इलेक्ट्रिफिकेशन का काम होना है मधेपुरा से पूर्णिया के बीच इलेक्ट्रिफिकेशन का काम शुरू होना है समस्तीपुर से खगरिया के बीच विद्युतीकरण का काम होना है इसके अलावा पर्यावरण और हरियाली को लेकर रेलवे का मनरेगा के तहत कई कार्य योजना शुरू होना है जैसलमेर रोजगार के लिए प्रवासी मजदूरों को लगाया जाएगा इसके अलावा सुपौल से पिपरा अररिया गलगलिया तक के बीच नई रेल खंड निर्माण कार्य शुरू होना हैं। समस्तीपुर डिवीजन के सीनियर डी ई एन कोआर्डिनेशन आरआर झा ने बताया किदूसरे प्रदेशों से काफी संख्या में प्रवासी मजदूर बिहार लौट रहे हैं कोरोना संक्रमण काल में रोजगार की दिक्कत होगी इसके लिए रेलवे ने निर्णय लिया है कि अब सभी योजनाओं में प्रवासी मजदूरों को लगाया जाएगा जिन क्षेत्रों में रेलवे का काम चल रहा है उसके समीप बसे गांव मैं प्रवासी मजदूरों को रोजगार के लिए जागरूक कर लगाया जाएगा पिछले वर्ष 1150 प्रवासी मजदूरों को रोजगार दिया गया था सभी कांट्रेक्टर को इसकी जानकारी दे दी जाएगी ।वहीं रेल अधिकारियों का कहना है कि दूसरे प्रदेशों से भारी संख्या में प्रवासी मजदूर बिहार लौट रहे हैं ऐसे में रोजगार के साधन की दिक्कत होगी रेलवे की जो भी रुकी परियोजना है उसे पूरा करने में तेजी लाई जाएगी साथ ही कई नई परियोजनाओं को भी लागू किया जाएगा ताकि सभी योजनाओं में प्रवासी मजदूरों को रोजगार मिल सके जल्द ही इसके लिए उच्च अधिकारियों की एक बैठक होगी

आज से लोक आस्था का महापर्व चैत्र छठ का चार दिवसीय अनुष्ठान शुरु

0

पटनाः लोक आस्था का महापर्व छठ का चार दिवसीय अनुष्ठान चैत्र शुक्ल चतुर्थी यानी 16 अप्रैल से नहाय खाय के साथ शुरू हो रहा है। छठ पूजा मुख्य रूप से प्रत्यक्ष देव भगवान भास्कर की उपासना का पर्व है। वर्ष में कुल दो छठ महापर्व होते हैं जिसमें पहला चैत्र मास में, तो दूसरा कार्तिक मास में आता है। यही नहीं, पौराणिक मान्यताओं के अनुसार छठ सूर्यदेव की बहन हैं। 16 अप्रैल को रवियोग और सौभाग्य योग के युग्म संयोग में नहाय खाय के साथ छठ महापर्व का चार दिवसीय अनुष्ठान शुरू होगा। 17 अप्रैल को शोभन योग में खरना की पूजा होगी और 18 अप्रैल को रविवार दिन के साथ रवियोग में भगवान भास्कर को सायंकालीन अर्घ्य तथा सुकर्मा योग में व्रती प्रात:कालीन अर्घ्य देकर व्रत को पूर्ण करेंगे। यह पर्व पारिवारिक सुख समृद्धि और मनोवांछित फल की प्राप्ति के लिए व्रती पूरे विधि विधान से छठ का व्रत करेंगी। इस पर्व को करने से रोग, शोक भय आदि से मुक्ति मिलती है। छठ व्रत करने की परंपरा ऋग्वैदिक काल से ही चली आ रही है।
सूर्य षष्ठी का व्रत आरोग्यता सौभाग्य और संतान के लिए किया जाता है। स्कंद पुराण के मुताबिक, राजा प्रियव्रत ने भी यह व्रत रखा था। उन्हें कुष्ठ रोग हो गया था। भगवान भास्कर से इस रोग की मुक्ति के लिए उन्होंने छठ व्रत किया था। स्कंद पुराण में प्रतिहार षष्ठी के तौर पर इस व्रत की चर्चा है। वर्षकृत्यम में भी छठ की चर्चा है।मान्यता है कि छठ पर्व में सूयोर्पासना करने से छठ माता प्रसन्न होती है और परिवार में सुख, शांति, धन, धान्य से परिपूर्ण करती है। हालांकि इस बार कोरोना की बढ़ती रफ्तार के कारण गंगा घाटों पर जाकर अर्ध्य देने पर पाबंदी है। जबकि पटना जिलाधिकारी ने इस बाबत निर्देश भी जारी किए हैं।छठ महापर्व के प्रथम दिन नहाय खाय में लौकी की सब्जी,अरवा चावल, चने की दाल और आंवला की चाशनी के सेवन का खास महत्व है। वैदिक मान्यता है कि इससे पुत्र की प्राप्ति होती है। वही, वैज्ञानिक मान्यता है कि गर्भाशय मजबूत होता है। खरना के प्रसाद में ईख के कच्चे रस, गुड़ के सेवन से त्वचा रोग और आंख की पीड़ा समाप्त हो जाती है। वहीं इसके प्रसाद से तेजस्विता, निरोगिता व बौद्धिक क्षमता में वृद्धि होती है।प्रत्यक्ष देव भगवान भास्कर को सप्तमी तिथि अत्यंत प्रिय है। विष्णु पुराण के अनुसार तिथियों के बंटवारे के समय सूर्य को सप्तमी तिथि प्रदान की गई इसलिए उन्हें सप्तमी का स्वामी कहा जाता है। सूर्य भगवान अपने इस प्रिय तिथि पर पूजा से अभिष्ठ फल प्रदान करते हैं।बिहार में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस वर्ष भी सरकार और पटना के जिलाधिकारी डॉ। चंद्रशेखर ने पटना के गंगा घाटों तलाबों में छठ अर्ध्य नहीं देने की अपील छठव्रतियों से की है। इसके लिये पटना और आसपास के सभी गंगा घाटों तलाबों पर पुलिसबलों की तैनाती भी कर दी गई है।

आटा चक्की मिल मालिक ने बुजुर्ग को रॉड से पीटपीट कर मार डाला

0
हत्या

आटा चक्की मिल मालिक ने बुजुर्ग को रॉड से पीटपीट कर मार डाला

नवादा से अनिल शर्मा की रिपोर्ट
नवादा: जिले के धमौल ओपी क्षेत्र के पड़रिया गाँव में आटा चक्की मिल मालिक ने एक बुजुर्ग को पीट पीट कर हत्या कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय थाना पुलिस दलबल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की छानबीन में जुट गई है। बताया जा रहा है कि मृतक का पुत्र मिल में गेहूं पिसाने के लिए आया था। गेहूं पिसाई के बाद मिल मालिक द्वारा कम आटा दिया जा रहा था, तभी मृतक के पुत्र ने इसका विरोध किया। विरोध करने पर मिल मालिक ने उसके साथ मारपीट करने लगा, तभी बीच-बचाव करने आए वृद्ध पिता को संचालक ने लोहे के रॉड से पीट-पीटकर मार डाला। फिलहाल पुलिस मामले की तफ्तीश में जुट गई है। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है।वहीं मृतक की पहचान पड़रिया गांव के सरयू यादव के रूप में कई गई है।

मेडिसिटी अस्पताल को सिविल सर्जन ने दिया सील करने का निर्देश

0

तीन सदस्यीय जांच दल ने पाया कि अस्पताल के पास नहीं था निबंधन दस्तावेज

सोनभद्र संवाददाता, पूर्णिया। लाइन बाजार स्थित बिना निबंधन के एक निजी अस्पताल में संदिग्ध कोरोना मरीज की मौत होने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि लाइन बाजार कुंडी पूल के पास मेडिसीटी न्यूरो अस्पताल में रितेश कुमार नाम के एक मरीज का इलाज चल रहा था। डॉक्टर ने मरीज को कोरोना जांच के लिए लिख दिया । जब लाइन बाजार स्थित सम्स फोर्ड डायग्नोस्टिक में सैंपल जांच करवाया तो रिपोर्ट में कोरोना के संदिग्ध बताया गया। लेकिन रिपोर्ट आने से पहले ही मरीज की मौत हो गई । कोरोना के डर से परिजन शव को अस्पताल में ही छोड़कर भाग गए। अस्पताल प्रबंधक ने स्वास्थ्य विभाग को सूचना दिए । बिना जांच के ही शव को अस्पताल के एक रूम में बंद कर दिया। तभी किसी ने घटना की सूचना सिविल सर्जन को दिया। सिविल सर्जन एसके वर्मा ने जिला वैक्टर बोर्न डिजिट नियंत्रण पदाधिकारी डॉ आरपी मंडल, डॉ ओपी साहा व डीसीएम संजय कुमार दिनकर के नेतृत्व में तीन सदस्ययी जांच टीम गठित कर दिया। डीसीएम संजय कुमार दिनकर ने बताया कि जब मेडिसीटी अस्पताल में पहुंचा तो अस्पताल कर्मी शव दिखाने से इंकार कर दिया। अस्पताल के अंदर रूम का जब तलाशी लिया गया तो शव को रूम के एक कोने में पड़ा हुआ मिला। दिनकर ने बताया कि जांच के क्रम में अस्पताल निबंधित नहीं है। इसके अलावा कोरोना जांच करने वाले डायग्नोस्टिक सेंटर भी निबंधित नहीं है । अस्पताल और डायग्नोस्टिक सेंटर दोनों ही अवैध रूप से संचालित पाया गया । रीपोर्ट सौंपने के बाद सीएस ने अस्पताल को सील करने के लिए सदर अनुमंडल पदाधिकारी को पत्र लिखा है।

कोरोना गाइडलाइन उल्लंघन मामले में राजद के 2 और माले के 1 विधायक पर केस

0

रोहतासः बिहार में करोना गाइडलाइन का उल्लंघन करना रोहतास जिला के 3 विधायकों को महंगा पड़ा है। बिना अनुमति के सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन कर भीड़ इकट्ठा करने तथा गाइडलाइन का पालन न करने के आरोप में नोखा के राजद विधायक तथा पूर्व मंत्री अनिता देवी, दिनारा के राजद विधायक विजय मंडल तथा काराकाट से माले विधायक अरुण कुमार पर केस दर्ज किया गया है।
नासरीगंज के अंचलाधिकारी श्यामसुंदर राय ने यह मुकदमा दर्ज कराया है। दरअसल, रविवार की रात नासरीगंज के बाराडीह गांव में राजद के स्थानीय नेता रामनाथ यादव ने त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मान में चैता कार्यक्रम का आयोजन किया था। बता दें कि इन दिनों रामनाथ यादव के विधानपरिषद का चुनाव लड़ने की चर्चा है। उसी को लेकर यह कार्यक्रम आयोजित की गई थी। इस कार्यक्रम में विधायक अनीता देवी, विजय मंडल तथा अरुण कुमार शामिल हुए थे। साथ ही जिला परिषद के अध्यक्ष नथनी पासवान, डिहरी की प्रखंड प्रमुख पूनम देवी जिला पार्षद मनोज कुमार सहित 17 नामजद के अलावे 800 से 1000 अज्ञात लोगों पर यह मुकदमा दर्ज कराया गया है।अंचलाधिकारी द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमे में भारतीय दंड संहिता की धारा 188 तथा महामारी रोकथाम अधिनियम 2897 के विभिन्न सुसंगत धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। साथ ही बिना अनुमति के कार्यक्रम आयोजित करने तथा देर रात तक लाउडस्पीकर से शोर करने का भी आरोप है। लाउडस्पीकर एक्ट 1955 की भी धाराएं लगाई गई हैं।बता दें कि रविवार को नासरीगंज के बारडीह ही गांव में पंचायत प्रतिनिधियों का सम्मान समारोह आयोजित किया गया था। साथ ही रात भर चैता गायन का आयोजन किया गया, जिसमें हजारों की संख्या में ग्रामीण इकट्ठा हुए बिना सैनिटाइजर मास्क तथा सोशल डिस्टेंसिंग के कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जो करोना गाइडलाइन का खुलेआम उल्लंघन है।

Translate »
Exit mobile version