Home crime प्राथमिकी दर्ज होने के महज 72 घंटे के अंदर ठगी कांड का...

प्राथमिकी दर्ज होने के महज 72 घंटे के अंदर ठगी कांड का पुलिस ने किया उदभेदन, दो ठगी बाबा गिरफ्तार

210
0

जानकीनगर थाना पुलिस के द्वारा प्राथमिकी दर्ज होने के महज 72 घंटे के अंदर ठगी कांड उदभेदन करते हुए दो ठगी बाबा को गिरफ्तार किया है । मामले का उदभेदन करते हुए पुलिस अधीक्षक दयाशंकर ने कहा कि जानकीनगर मिर्चाबाड़ी वार्ड 2  निवासी  जग्गन ऋषिदेव  के द्वारा दो अज्ञात ढोंगी बाबा (ठगी) के द्वारा बरगला कर घर में सुख-शांति लाने हेतु घर पर पूजा करने के बहाने तीन लाख रूपया और नौ भर जेवर लेकर भाग जाने के आरोप में लिखित आवेदन के प्राथमिकी दर्ज करवाया था। 

कांड के सफल उद्भेदन,अभियुक्त की गिरफ्तारी तथा कांड में ठगी गये समान की बरामदगी हेतु बनमनखी डीएसपी विभाष कुमार के नेतृत्व में  एक टीम का गठन किया गया। गठित टीम में जानकीनगर थानाध्यक्ष  एवं अन्य थे। गठित टीम के सदस्यों के द्वारा सौर बाजार थानाध्यक्ष के सहयोग से त्वरित कारवाई करते हुए वैज्ञानिक अनुसंधान, तकनिकी अनुश्रवण एवं साक्ष्य संकलन करते हुए प्राथमिकी के महज 72 घंटो के अंदर ही  सौरबाजार थाना निवासी शशीभुषण कुमार और ब्रजेश कुमार घर से गिरफ्तार किया गया। वहीं ठगी के 30 हजार रुपया, नाक का सोने का तीन नकमुनी घटना में प्रयुक्त मोबाईल फोन तथा   मोटर साईकिल के साथ गिरफ्तार किया गया। पूछताछ के क्रम में दोनों ठगी बाबा ने अपना अपराध स्वीकार किया साथ ही बताया कि इनके (शशीभुषण कुमार) घर की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण अपने साला  ब्रजेश कुमार के साथ विभिन्न प्रकार का पत्थर एवं रुद्राक्ष आदि बेचकर पिछले चार वर्षो से 05 से 10 हजार तक की ठगी कर घर का खर्च चलाता आ रहा है। इसी क्रम में जानकीनगर थाना क्षेत्र अन्तर्गत जग्गन ऋषिदेव के घर पर जाकर सतगुरु कबीर सत्संग समारोह के नाम पर इनसे चंदा माॅंगा तब वादी के द्वारा 101 रुपये का चंदा दिया गया साथ ही खाना भी खिलाया । इस बीच दोनों ठग पूरे परिवार के मोबाईल नंबर मांग लिया । जिसकेे बाद बराबर सभी परिवार से बातचीत कर घर के माहौल का जायजा लेकर घर में सुख-शांति  कराने हेतु डीह बंधवाने के नाम पर पूजा कराने तथा पूजा स्थल पर कलश के नीचे 3 लाख रुपये एवं कलश के अंदर 09 प्रकार का जेवर रखने को बोले तथा एक वादी की पूतोहू को घर पर रहने तथा बाकी सभी परिवार को चकमका मंदिर जाकर पूजा करने बोले, जब घर के सभी परिवार पूजा पाठ करने चकमका चले गये तब शशीभुषण कुमार अपने साला को वादी के घर भेजकर वादी की पूतोहू को बेबकूफ बनाते हुए कलश के नीचे रखे रुपये एवं कलश में रखे जेवर को लेकर मोटर साईकिल से फरार हो गये।विधिसम्मत कारवाई पूर्ण करते हुए बरामद सामनों को विधिवत जप्त किया गया तथा दोनों अपराधकर्मियों को गिरफतार कर न्यायिक हिरासत में भेजा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here