Home संपादकीय अपनी बात बाल कहानी/ निधि चौधरी

बाल कहानी/ निधि चौधरी

151
0
Advertisement

मन की सुंदरता :-लिली और मिली दो बहनें थी।लिली बहुत सुंदर थी। और मिली का रंग गहरा था। लेकिन मिली बहुत गुणवान होने के साथ व्यवहार कुशल भी थी। और लिली सिर्फ देखने में ही सुंदर थी बाकी कार्यों में एकदम पीछे। लिली मिली से बहुत ईर्ष्या की भावना रखती थी। एकदिन माँ ने कहा लिली जा मिली के साथ बाजार से कुछ सामान ले आ। तभी लिली मुँह बनाते हुए बोली मुझे इस काली कलूटी के साथ कहीं नहीं जाना। लिली मिली को नीचा दिखाने का कोई अवसर नहीं चूकती।

मिली लिली के व्यवहार से खुश नही थी। एक दिन मिली उदास अपने बगीचे में बैठी थी कि तभी एक गौरैया वहाँ उड़ते हुए गिर गई। मिली ने झट से जा कर गौरैया को उठाया और पानी पिलाया। तभी गौरैया बोली धन्यवाद मिली। मिली ने आश्चर्य से देखा और बोला अरे तुम तो बोल सकती हो। इतने में गौरैया ने एक सुंदर परी का रूप ले लिया। और मिली से कहा हाँ मिली मैं एक परी हूँ मुझे चिड़िया बन उड़ना बहुत पसंद है। तुमने शिकारियों से मुझे बचाया है बोलो तुम्हे क्या चाहिए? मिली ने उदास भरे स्वर में कहा कि मैं सुन्दर नहीं हूँ इसलिए मेरी बहन मुझसे नफ़रत करती है। मुझे सुन्दर बना दो परी रानी। परी ने कहा मिली सुंदरता तन से नहीं मन से होनी चाहिए और मेरी जान बचा के तुमने साबित कर दिया है कि तुम बहुत सुन्दर हो लेकिन फिर भी यह हार लो इसे पहनते ही तुम खूबसूरत हो जाओगी। मिली जैसे ही हार पहनती है वह एकदम परी जैसी खूबसूरत हो जाती है। अगले दिन सुबह जब लिली ने मिली को देखा तो वह चकित रह गई। अब मिली तो लिली से भी अधिक सुंदर दिख रही थी लेकिन अब लिली को मिली से ईर्ष्या होने लगी। एक दिन लिली को मिली के हार का राज़ पता चल गया। वह सोचने लगी कि यह हार मेरी हो जाए तो मैं और सुंदर हो जाऊंगी। तभी रात को मौका देख कर वह मिली की हार चुरा लेती है और खुद पहन लेती है लेकिन यह क्या हार पहनते ही वह बदसूरत हो जाती है एकदम चुड़ैल जैसी दिखने लगती है। जैसे ही वह खुद को आईने में देखती है चीख पड़ती है और रोने लगती है। तभी वहां मिली आ जाती है। और वह लिली की यह हालत देख दुःखी हो जाती है और मन ही मन परी रानी का ध्यान करती है। परी रानी तुरंत प्रकट होती है और मिली कहती है हे परी रानी मेरी बहन को ठीक कर दो। परी लिली को समझाती है देखो जिस बहन से तुम नफ़रत करती हो वह तुम्हारे लिए कितनी चिंतित है। इसलिए लोगों के मन की सुंदरता देखनी चाहिए तन की नहीं। लिली को अपने किये पर पछतावा होता है फिर परी रानी दोनों बहनों को पहले जैसा कर देती है। और दोनों बहनें मिली और लिली प्यार से रहने लगती है।
निधि चौधरी
किशनगंज, बिहार

Advertisement
Advertisement
Previous articleट्विटर ने अमरिकी नियमों का हवाला देकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का 1 घंटे तक अकाउंट किया बंद
Next articleगैस सिलेंडर में लगी आग, लाखों का सामान जलकर राख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here