अखबार से लेकर दूध तक बेचा;रात में की सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी और दिन में करते थे प्रैक्टिस,अब छू रहा आसमान

गौतम सुमन गर्जना /भागलपुर : अंग प्रदेश के हृदय‌ सथल स्थित भागलपुर के गंगा किनारे वाला छोरा आकाश कुमार सिंह अब देश का जाना माना नाम बन चुका है। कलर्स पर आयोजित कार्यक्रम हुनरबाज का विजेता बन उसने अपने हुनर को साबित कर दिया। आकाश ने एरियल आर्ट और फ्लाइंग पोल पर अपना जौहर दिखाकर रियलिटी शो हुनरबाज का खिताब जीत लिया है.आकाश को मिली सफलता,उनकी कड़ी मेहनत का नतीजा है। विदित हो कि ये आकाश भागलपुर के सबौर स्थित जमसी गांव के रहने वाले हैं. उनको इनाम के तौर पर एक ट्रॉफी और 15 लाख रुपये का चेक मिला है.हुनरबाज के ग्रैंड फिनाले में एक्ट्रेस नीतू सिंह और नोरा फतेही ने आकाश को ट्रॉफी दी.इस शो की जज एक्टर परिणीति चोपड़ा, मिथुन चक्रवर्ती और करण जौहर थे।


सपना पूरा करने के लिए अखबार से लेकर दूध तक बेचा

आकाश की कामयाबी उनकी संघर्ष से छोटी है।आज जो मुकाम उसने हासिल किया है,वह महज शुरुआत है।
इस बावत उन्होंने बताया कि अपने खाने-पीने के खर्चे के लिए उसने अखबार से लेकर दूध तक बेचा.उसके बाद रात में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी की.अपने सपने को पूरा करने के लिए दिन में प्रैक्टिस करता था.हुनरबाज के लिए सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी से कुछ दिनों के लिए ब्रेक लिया है.आकाश का भागलपुर से मायानगरी मुंबई का सफर काफी पीड़ादायक है. आकाश का बचपन एक कमरे के खपरैल वाले घर में बीता है अभी भी आकाश के घर में मिट्टी के चूल्हे पर ही खाना बनता है।


2018 में घर से निकले, 2022 में मिली सफलता

आकाश के पिता ने बताया कि- “बेटे ने कितने कष्ट झेले,पर उसे कभी नहीं बताया.2018 में आकाश घर से निकला था.लॉकडाउन के दौरान काफी दुखों को झेला पर कभी घर में नहीं बताया. 2018 के ऑडिशन में असफल हुए, लेकिन घर में किसी को कुछ नहीं बताया.बेटा घर की स्थिति से अवगत था.5 साल तक कड़ी सफलता के बाद जब कलर्स चैनल पर आयोजित रियलिटी शो हुनरबाज में जब उसका सलेक्शन हुआ,तो उसकी मेहनत रंग लाई.उन्होंने बताया कि भागलपुर के मारवाड़ी कॉलेज से आकाश ने B.com की पढ़ाई की है.”
माता-पिता के लिए बनवाना चाहते हैं घर :

आकाश ने बताया कि इनाम में मिले 15 लाख रुपये से वह मम्मी-पापा के लिए गांव में मकान बनवाना चाहता है. गांव में उनका कच्चा मकान है.इसके अलावा अपने मम्मी-पापा को मुंबई और शिरडी घुमाना चाहते हैं.उन्होंने बताया कि गांव में लोग उनका मजाक उड़ाते थे,लेकिन अब उनके पापा के साथ सेल्फी लेने के लिए तैयार है।


22 जनवरी को शुरू हुआ था शो,पिता को यकीन था बेटा कुछ बड़ा करेगा

22 जनवरी 2022 से हुनरबाज देश की शान रियलिटी शो की शुरुआत हुई थी.लगभग तीन महीन चले इस कार्यक्रम के पहले दिन से आकाश जजेज की आंख के तारे बन गए.आकाश ने अपने प्रदर्शन से सभी जजों का दिल जीत लिया था।रविवार को आयोजित ग्रैंड फिनाले में आकाश को यह खिताब मिला. आकाश की कहानी सुनकर जहां परिणीति चौपड़ा की आंखें भर आई थी.वहीं शो के दौरान ही उन्होंने आकाश को अपना भाई भी बना लिया था।
भागलपुर के सबौर के जमसी से निकल बॉलीवुड में छोड़ी छाप :

भागलपुर के सबौर के जमसी निवासी राज किशोर सिंह के बेटे आकाश अब किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं. अपने अद्वितीय कला से देशभर के लोगों को चौंका रहे हैं. कलर्स चैनल पर हुनरबाज नामक शो में आकाश ने एरियल आर्ट और फ्लाइंग पोल पर कलाकारी कर शो के जज मिथुन चक्रवर्ती,दिग्गज निर्माता और निर्देशक करण जौहर और परिणीति चोपड़ा को चौंका दिया था. 99 प्रतिशत अंक के साथ वे चयनित हुए.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »