Home Blog Page 2

पूर्णिया विवि में फूटा कोरोना बम, अब तक 9 हुए पॉजिटिव

0
विवि परिसर में जांच करवाते पीआर सेल के रजनीश कुमार

मंगलवार का दिन पूर्णिया विश्वविद्यालय के लिए अमंगलकारी साबित हुआ। एक ही दिन में अब तक 8 कर्मी पॉजिटिव पाए गए हैं। विवि से मिली जानकारी के अनुसार अब तक 112 लोगों की जांच हुई है। इसमें 8 कर्मी पॉजिटिव हुए हैं।

विवि परिसर में जांच करवाते एनएसएस के विवि कोऑर्डिनेटर डॉ. आरडी पासवान

इसमें प्रभारी कुलपति के ‌ऑफिस कर्मी, डिप्टी रजिस्ट्रार एडमिन ऑफिस का कर्मी और फाइनेंस विभाग के कर्मी शामिल हैं। आपको बता दें कि 3 दिन पहले विवि के परीक्षा नियंत्रक भी पॉजिटिव हो गए थे, इसके बाद विवि प्रशासन हरकत में आया।इसके बाद ही मंगलवार को जिला प्रशासन से बोलकर विवि परिसर में कोरोना जांच कैम्प लगाया था। फिलहाल जांच अभी जारी है।

शहीद थानेदार अश्विनी कुमार की मां का निधन

0

पूर्णिया। पश्चिम बंगाल में मॉब लिंचिंग के दौरान शहीद हुए किशनगंज के जांबाज थानेदार अश्विनी कुमार की मां का भी निधन हो गया है। अश्विनी कुमार की मां उर्मिला देवी 70 वर्ष की बुजुर्ग थी। उन्होंने अपने बेटे के शहीद होने की खबर सुनी वो यह सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाई और उनके घर पूर्णिया जिला के जानकीनगर थाना के पांचों मंडल टोला में उनका निधन हो गया। उर्मिला देवी पहले से ही हर्ट की मरीज थी।परिजन उनको बेटे की मौत की सूचना नहीं दे रहे थे लेकिन जैसे ही उन्हें यह सूचना मिली कि वह सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाई। अब एक ही घर से शहीद और उनके मां दोनों की अर्थी एक साथ निकलने वाली है।रविवार को करीब 2 बजे गांव में ही दोनों का अंतिम संस्कार होगा।इस घटना की सूचना मिलते ही गांव में शोक की लहर दौड़ गई है।

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम को जिले में चलाया जा रहा दो दिवसीय विशेष टीकाकरण अभियान

0

जिलाधिकारी ने किया टीकाकरण स्थलों का निरीक्षण

  • 10 एवं 11 अप्रैल को सभी प्रखंडों व नगर निगम में टीकाकरण के लिए बनाए गए हैं 178 टीकाकरण कैम्प
  • नोडल अधिकारियों द्वारा लोगों को टीकाकरण के प्रति किया जा रहा जागरूक
  • 45 वर्ष या उससे अधिक उम्र के सभी लोग लगवा सकते हैं कोविड-19 का टीका

पूर्णिया। पूर्णिया जिले में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इसकी रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग, बिहार सरकार के निर्देश के आलोक में जिला प्रशासन द्वारा 10 एवं 11 अप्रैल को विशेष टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। विशेष टीकाकरण अभियान के लिए जिले में कुल 178 टीकाकरण केंद्र बनाए गये है । जिसमें नगर निगम, पूर्णिया के सभी 46 वार्ड के साथ ही सभी 14 प्रखंड में 132 टीकाकरण सत्र लगाए गए हैं। सभी टीकाकरण स्थलों में जिले के 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका लगाया जा रहा है। दो दिवसीय टीकाकरण अभियान का जिलाधिकारी राहुल कुमार द्वारा निरीक्षण किया गया। उन्होंने केनगर, धमदाहा एवं भवानीपुर टीकाकरण स्थल का निरक्षण करने के साथ ही योग्य लाभुकों को टीकाकरण के लिए भी प्रेरित किया। जिलाधिकारी राहुल कुमार ने लोगों को टीकाकरण के बाद भी कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन करने, हमेशा मास्क का उपयोग करने और सोशल डिस्टेनसिंग का पालन करने का निर्देश दिया। इसके अलावा जिलाधिकारी ने सभी नोडल अधिकारी को क्षेत्र के सभी 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड-19 से बचाव हेतु टीका लगवाने के लिए जागरूक करने का निर्देश दिया।

विशेष टीकाकरण अभियान के लिए जिले में बनाए गए हैं 178 टीकाकरण कैम्प
स्वास्थ्य विभाग के निर्देश के आलोक में चलाये जा रहे दो दिवसीय विशेष टीकाकरण अभियान के लिए जिले में कुल 178 विशेष सत्र लगाए गए हैं। इसमें नगर निगम क्षेत्र के सभी 46 वार्डों के विद्यालय भवन या सार्वजनिक स्थलों में टीकाकरण सत्र लगाने के अलावा सभी प्रखंड के स्वास्थ्य केंद्रों, उपस्वास्थ्य केंद्रों में कैम्प लगाया गया है। दो दिवसीय विशेष टीकाकरण अभियान के लिए जिले के धमदाहा प्रखंड में 10, अमौर में 13, के.नगर में 11, डगरुआ में 10, बायसी में 08, बैसा में 09, बनबनखी में 09, बी.कोठी में 09, भवानीपुर में 09, जलालगढ़ में 11, कसबा में 08, रुपौली में 11, श्रीनगर में 08 एवं पूर्णिया पूर्व में 06 टीकाकरण सत्र बनाए गए हैं। दो दिवसीय टीकाकरण अभियान में जिले के 35 हजार लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है।

नोडल अधिकारियों द्वारा लोगों को टीकाकरण के प्रति किया जा रहा जागरूक
संक्रमण से बचाव के लिए लगाए जा रहे टीकाकरण अभियान में लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए सभी स्तर पर नोडल अधिकारी बनाये गए हैं तथा उन्हें अपने क्षेत्र के अधिक से अधिक लोगों को टीकाकरण के लिए जागरूक करने की जिम्मेदारी दी गई है। टीकाकरण के लिए प्रखंड स्तर पर प्रखंड विकास पदाधिकारी/अंचलाधिकारी/कार्यक्रम पदाधिकारी/बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को अपने कर्मियों द्वारा लोगों को जागरूक करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी को अपने क्षेत्र में बीसीएम व आशा कर्मियों का उपयोग लेने का निर्देश दिया गया है। नगर निगम क्षेत्र में नगर आयुक्त को नगर पंचायतों के कार्यपालक पदाधिकारी, वार्ड सदस्यों एवं अन्य जनप्रतिनिधियों से सहयोग लेने की अपेक्षा की गई है। लोगों को टीकाकरण के लिए जागरूक करने के लिए जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (आईसीडीएस), जिला परियोजना प्रबंधक (जीविका) को भी अपने स्तर से सहयोग देकर चिह्नित लाभार्थियों को शत प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित करने हेतु निर्देशित किया गया है। सिविल सर्जन को कोविड-19 टीकाकरण के लिए नजदीकी सत्र स्थल यथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर की व्यवस्था सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

45 वर्ष या उससे अधिक उम्र के सभी लोगों को दिया जाएगा टीका
विशेष टीकाकरण अभियान में जिले के 45 वर्ष या उससे अधिक उम्र के सभी लोगों को कोविड-19 से बचाव हेतु टीका लगाया जा रहा है। टीकाकरण सत्र पर एक साथ अत्यधिक संख्या में योग्य लाभार्थियों के आने व स्तर स्थल पर होने वाली भीड़-भाड़ की स्थिति में पोर्टल प्रविष्टि में समय लगने की सम्भावना को देखते हुए स्वास्थ्य कर्मियों को लाभार्थियों की पहचान की जांच कर उनके आधार कार्ड की छाया प्रति, मोबाइल नंबर लेते हुए उन्हें संधारित करते हुए लाभार्थियों का टीका सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है। पोर्टल के सामान्य रूप से कार्य करने पर सम्बंधित लाभार्थियों के आंकड़ों की विवरणी, फ़ोटो, पहचान पत्र पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश दिया गया है।

प्रति दो घंटे में जिला नियंत्रण कक्ष को दी जानी है सूचना
जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (मनरेगा), सहायक परियोजना पदाधिकारी डीआरडीए को जिला नियंत्रण कक्ष में प्रतिनियुक्त किया गया है। उनके द्वारा प्रत्येक दो घंटे में टीकाकरण सेंटर पर नामित कर्मियों, पदाधिकारी या नोडल अधिकारी से समन्यवय स्थापित करते हुए प्रति दो-दो घंटे पर प्रतिवेदन लेकर वरीय अधिकारियों को सूचित करने का निर्देश दिया गया है।

किशनगंज थाना अध्यक्ष हत्या मामले में एक महिला सहित तीन गिरफ्तार

0

किशनगंज थानाध्यक्ष अश्विनी कुमार हत्या मामलें में आज तीन हत्यारों की गिरफ्तारी करने में पुलिस सफल रही है गिरफ्तार हत्यारों में एक महिला और दो पुरुष शामिल हैं । बताया जाता है कि गिरफ्तार अपराधी फिरोज आलम, अबूजर आलम और शाहिनूर खातून के घर में ही थानाध्यक्ष को घेरे में लेकर पीटा गया था। इन लोगों और इनके सहयोगियों द्वारा इतनी पिटाई की गई की थानाध्यक्ष की मौत हो गई। घटना के बाद से पूरा पुलिस महकमा सकते में आ गया पुलिसकर्मियों के अंदर आक्रोश काफी बढ़ गया। जिसके बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए तत्काल तीन हत्यारों को पुलिस गिरफ्तार करने में सफल रही अन्य की भी तलाश अभी जारी है।

वहीं पश्चिम बंगाल पुलिस एक हत्याकांड मामले में शामिल आरोपियों के गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रहीं थीं। ज्ञात हो कि पश्चिम बंगाल के पंजीपड़ा थाने के पंतापड़ा गांव में एक वांटेड अपराधी के छिपे होने की सूचना किशनगंज पुलिस को थी। जिसकी गिरफ्तारी के लिए किशनगंज थाना अध्यक्ष अश्वनी कुमार अपने दल बल के साथ उस गांव पहुंचे थे जहां इन गिरफ्तार अपराधियों के अलावा ऊनके सहयोगियों के द्वारा पुलिस बल पर हमला कर दिया गया था । जिस दौरान किशनगंज थानाध्यक्ष इन लोगों के निशाने पर आ गए। जहां इनको पीट -पीट कर मौत के घाट उतार दिया था। इस्लामपुर एसपी सचिन मककर ने बताया कि तीन अभियुक्त कि गिरफ्तारी हुई है। घटना में शामिल अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही हैं।जल्द ही अपराधियों की गिरफ्तारी की जायेगी।

झोलाछाप डॉक्टर की सुई ने ली महिला की जान, परिजनों ने थाना में की शिकायत

0

ग्रामीण क्षेत्रों में झोलाछाप डॉक्टरों की पकड़ का खामियाजा असहाय और गरीबों को अपनी मौत देकर चुकाना पड़ रहा है राज्य सरकार भले ही लगातार झोलाछाप डॉक्टरों पर नकेल कसने का दम भर्ती है लेकिन वह कुछ नहीं हो रहा है । राज सरकार की स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता का ही नतीजा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी लोग बेबस और मजबूर हैं। झोलाछाप डॉक्टरों के शरण में जाने को आज ऐसी ही एक दुखद घटना मरंगा थाना क्षेत्र में तब घटित हो गई जब एक झोलाछाप डॉक्टर महिला इलाज के लिए आया और अपनी सुई से

उसकी जान ले ली जानकारी के अनुसार मरंगा थाना क्षेत्र के लाइन बस्ती के निवासी बन्नी उरांव की पत्नी बसंती देवी की तबीयत खराब होने पर गांव के ही एक झोलाछाप डॉक्टर को इलाज के लिए बुलाया गया उसने महिला को देखने के बाद आनन-फानन में एक सुई दे डाली जिसके बाद उक्त महिला की हालत ठीक होने की बजाय और बिगड़ ही गई बताया जाता है कि सुई के कुछ पलों के बाद ही महिला की मौत हो गई। झोलाछाप डॉक्टर को जैसे यह ज्ञात हुआ वह वहां से नौ दो ग्यारह हो गया। बाद में बन्नी उरांव द्वारा एक आवेदन मरंगा थाना अध्यक्ष को देखकर न्याय की गुहार लगाई गई है।

बंगाल में छापा मारने गए किशनगंज थानेदार की पीट-पीट कर हत्या

0

बिहार के किशनगंज टाउन थाना के थानेदार की हत्‍या कर दी गई है। थानेदार अश्विनी कुमार बाइक चोर गिरोह को पकड़ने के लिए गए थे, तभी अफराधियों ने उन्हें घेर लिया और हमला कर दिया। अब तक की जानकारी के मुताबिक, अश्विनी कुमार को पता चला था कि अपराधियों का कनेक्‍शन सीमावर्ती पश्चिम बंगाल से जुड़ा है। इसके बाद उन्‍होंने पश्चिम बंगाल के उत्‍तरी दिनाजपुर जिले के पांजीपाड़ा थाने को सूचना देने के बाद छापेमारी शुरू की। इस दौरान पंजीपाड़ा थाने के पनतापाड़ा गांव में भीड़ ने अपराधियों के बचाव में पुलिस पर हमला कर दिया। आरोप है कि पश्चिम बंगाल की पुलिस ने सूचना के बावजूद बिहार पुलिस की टीम को कोई सहयोग नहीं किया। अश्विनी कुमार के शव को पोस्टमाॅर्टम के लिए पश्‍चि‍म बंगाल के ही इस्लामपुर ले जाया गया है। किशनगंज एसपी कुमार आशीष और पूर्णिया आईजी सुरेश चौधरी मौके पर पहुंचे हैं। वहीं आईजी सुरेश चौधरी ने कहा कि थाना अध्यक्ष की छापेमारी के दौरान मौत हुई है। फिलहाल स्थानीय एसपी हमारा सहयोग कर रहे हैं, जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी होगी।

नीतीश का बड़ा ऐलान,बिहार के सभी स्कूल एक सप्ताह और बंद रहेंगे

0

बिहार में शाम सात बजे तक ही दुकानें खुलेंगी, धार्मिक स्थलों को श्रद्धालुओं के लिए किया गया बंद

पटना: बिहार में बढ़ते कोरोना को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रेस वार्ता में कहा कि सरकार हर स्तर पर मुश्तैद है। जो लोग बाहर से आ रहे हैं उनके लिए भी कांम किया जा रहा। बाहर से आ रहे लोगों का टेस्ट किया जा रहा। जो पॉजिटिव रहेंगे उन्हें उचित सेंटर पर भेजा का रहा है। बाकी लोगों को जो सुविधा देनी है वो देंगे। शुक्रवार को एक ट्रेन से जो लोग आये उनकी जांच की गई उसमें 17 लोग पॉजिटिव निकले। महाराष्ट्र से आने वाली ट्रेन पर विशेष नजर है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को यह भी ऐलान किया कि स्कूल आगे भी एक सप्ताह के लिए बंद रहेंगे।


मुख्यमंत्री ने कहा कि हमलोग अधिक से अधिक टेस्ट करने की कोशिश कर रहे। टीकाकरण भी किया जा रहा। प्रधानमंत्री ने एक बैठक में कहा था कि 11-14 अप्रैल तक टीकाकरण का विशेष अभियान चले। हमलोगों ने यह भी तय किया है कि टीकाकरण की रफ्तार को और बढ़ाया जाये। 4 दिनों में 4 लाख तक टीकाकरण करेंगे। पटना से लेकर नीचे के स्तर तक टीकाकरण का प्रबंध किया जा रहा है। टीकाकरण के बाद लोग ज्यादा सुरक्षित होंगे। अगर टीका लेने के बाद पॉजिटिव हो भी जाते हैं तो उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं होगी।सरकार ने पहले ही कहा था स्कूल 11 अप्रैल तक बंद होंगे। आज यह निर्णय हुआ है कि अगले एक सप्ताह के लिए स्कूल और भी बंद रहेंगे। राज्यपाल मोहदय की अध्यक्षता में एक सर्वदलीय बैठक होगी। इसकी तारीख बहुत जल्द तय हो जाएगी। इस बारे में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने कहा कि सभी दुकान शाम 7 बजे तक खुलेंगे। उन्होंने बताया कि सभी सिनेमाघरों में 50 फीसदी सीट तक टिकट बेचे जाएंगे। सभी पार्कों में मास्क का प्रयोग अनिवार्य किया है। राज्य में सभी धर्मिक स्थल बन्द रहेंगे।

बिहार में कोरोना से पूर्व मध्य रेलवे के टीटीई की हुई मौत

0
टीटीई समीर कुमार चंद्रवंशी की फाइल फोटो

पटना। राजधानी पटना पूरे बिहार के सबसे बड़े हॉटस्पॉट के रूप में विकसित हो चुका है। मरीजों की रिकवरी रेट भी 98 प्रतिशत से घटकर 96 फीसदी हो गई है। पिछले साल की अपेक्षा इस साल ज्यादा लोगों की मौत कोरोना की वजह से हो रही है। कोरोना का यह नया स्ट्रेन युवाओं, बच्चों को अपना शिकार बना रहा है। पूर्व मध्य रेल के टीटीई समीर कुमार चंद्रवंशी की कोरोना से मौत हो गई है। पिछले दिनों ये कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। कुछ दिन बाद उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई तो उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां कोरोना से लड़ते हुए उनकी मौत हो गई। समीर कुमार चंद्रवंशी पटना जंक्शन पर ट्रैवल टिकट एग्जामिनर के रूप में पदस्थापित थे। वह कोरोना काल में भी अपनी ड्यूटी कर रहे थे और पटना जंक्शन पर उतरने वाले लोगों की जांच की ड्यूटी में लगे हुए थे। इसीलिए कोरोना के बढ़ते मामलों और गंभीर लक्षणों को देखते हुए सभी लोगों से खास सावधानी बरतने की लगातार अपील की जा रही है।

पंचायत चुनाव को लेकर आरक्षित पदों की जारी हुई सूची

0

पटनाः बिहार में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव लड़ने वाले मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य, पंच पंचायत समिति के सदस्य और जिला पार्षदों के प्रत्याशियों को नामांकन भरने से पहले आरक्षित पदों की संख्या के बारे में विस्तृत जानकारी मिल सकेगी। राजय निर्वाचन आयोग द्वारा सभी जिलों को यह निर्देश जारी किया गया है कि त्रिस्तरीय पंचायतों और ग्राम कचहरी के विभिन्न पदों के लिए होने वाले निर्वाचन में विभिन्न पदों को डिजिटाइज कर दिया जाए। राज निर्वाचन आयोग से अनुमोदित आरक्षित पदों की सूची अभी जिला कार्यालयों में और आयोग कार्यालयों में संरक्षित रखा गया है। आयोग ने स्पष्ट किया है कि पंचायत के पदों के आरक्षण को डिजिटाइज कराया जाना अनिवार्य है, ताकि प्रत्याशियों के नामांकन उनके नामांकन पत्रों की जांच मतगणना और निर्वाचन प्रमाण पत्र और प्रपत्र 23 तैयार करने में कोई असुविधा न हो।पंचायत चुनाव को अधिकाधिक तरीके से पारदर्शी बनाने के लिए भी राज निर्वाचन आयोग ने सभी स्तर के आरक्षित पदों को सार्वजनिक करने का निर्देश दिया है।

मुखिया के कुल 8386 पदों में 3772 महिलाओं के लिए आरक्षित

बिहार के पंचायत राज विभाग के मुताबिक, राज्‍यमें ग्राम पंचायत में मुखिया के कुल पद 8386 हैं जिसमें महिला के लिए 3772 पद आरक्षित हैं।अनुसूचित जाति के लिए 1388 पद आरक्षित हैं जिसमें से महिला के लिए 562 पद तय किए गए हैं। इसी तरह अनुसूचित जनजाति के लिए मुखिया के लिए 92 पद आरक्षित हैं जिसमें 21 अनुसूचित जनजाति महिला के लिए हैं। जबकि पिछड़ा वर्ग के लिए 1441 पद ( महिला 585) आरक्षित हैं।
इसके साथ ग्राम कचहरी मैं सरपंच के कुल 8386 पद हैं। इसमें महिलाओं के लिए 3772 पद आरक्षित हैं। अनुसूचित जाति के लिए 1388 पद ( महिला 562) आरक्षित हैं। अनुसूचित जनजाति के लिए 92 पद आरक्षित हैं जिसमें से महिलाओं के लिए 21 पद हैं। पिछड़े वर्ग के लिए सरपंच पद के लिए 1441 पद आरक्षित हैं जिसमें से महिलाओं के लिए 585 पद हैं।
अगर वार्ड सदस्यों की अगर बात की जाए तो 114733 पदों में से महिलाओं के लिए 51998 पद आरक्षित हैं। इसमें अनुसूचित जाति के लिए 19037 पद (महिला 7469) आरक्षित हैं।अनुसूचित जनजाति के लिए 1223 पद (महिला 300) आरक्षित हैं। जबकि पिछड़े वर्ग में 18561 पद (महिला 7890) के लिए आरक्षित हैं। पंचायत समिति के सदस्यों लिए कुल 11497 पद होंगे जिसमें महिलाओं के लिए 5341 पद आरक्षित होंगे। इन 11497 में अनुसूचित जाति के लिए 1910 पद आरक्षित हैं जिसमें से महिलाओं के लिए 819 पद होंगे। इसी तरह अनुसूचित जनजाति के लिए 131 पद हैं जिसमें से महिलाओं के लिए 35 पर आरक्षण होगा। पिछड़ा वर्ग के लिए 2049 पद सुरक्षित होंगे जिसमें महिलाओं के लिए 903 पद आरक्षित किए गए हैं।

जिप सदस्य के 1161पदों में 548 पद महिलाओं के सुरक्षित

जिला परिषद सदस्यों के 1161 पदों के लिए चुनाव होगा जिसमें महिलाओं के लिए 548 पद सुरक्षित होंगे। इसमें अनुसूचित जाति के लिए 195 पद आरक्षित होंगे जिसमें महिलाओं के लिए 87 पद रिजर्व होंगे। इसी तरीके से अनुसूचित जनजाति के लिए 13 पद आरक्षित होंगे जिसमें महिलाओं को दो पद मिलेंगे। पिछड़ा वर्ग के 217 पद आरक्षित होंगे जिसमें महिलाओं के लिए 101 पद आरक्षित होंगे। इसके अलावा प्रमुख के लिए इस बार 538 पदों के लिए चुनाव होगा। महिलाओं के 236 पद महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे। अनुसूचित जाति के लिए 92 पद आरक्षित होंगे जिसमें से महिलाओं के लिए 36 पद आरक्षित होंगे। अनुसूचित जनजाति के लिए 5 पद आरक्षित हैं इसमें महिलाओं के लिए कोई आरक्षण नहीं होगा। साथ ही पिछड़ा वर्ग के लिए 93 पद आरक्षित होंगे जिसमें महिलाओं के लिए 36 पद के आरक्षण का प्रावधान किया गया है।
इसी तरीके से जिला परिषद के अध्यक्ष पद के लिए इस बार 38 पदों पर जो चुनाव होगा उसमें से महिलाओं के लिए 18 पद आरक्षित होंगे। इन 38 पदों में अनुसूचित जाति के लिए 6 पद आरक्षित होंगे जिसमें महिलाओं की 3 सीट रिज़र्व होगी। इसी तरीके से अनुसूचित जनजाति के लिए एक पद आरक्षित होगा जिसमें से महिलाओं के लिए कोई आरक्षण नहीं होगा। साथ ही साथ पिछड़ा वर्ग के लिए 7 सीट आरक्षित होंगी जिसमें से महिलाओं को तीन पद मिलेंगे।

दिव्यांगजनों को 0-50 किलोमीटर तक बस यात्रा की मुफ्त सुविधा दी जाएगी

0

नीरज/पटना ।बिहार राज्य आयुक्त निशक्तता (दिव्यांग जन) कार्यालय में परिवाद अनुभव राज बनाम सचिव, बिहार राज्य पथ परिवहन निगम, पटना के
के सुनवाई के दौरान निगम द्वारा दिव्यांग जनों को दी जाने वाली सुविधाओं का उल्लेख किया गया।
दिव्यांगजनों को 0-50 किलोमीटर तक की बस यात्रा मुफ्त होगी, परन्तु इससे अधिक दूरी यात्रा पर 50 प्रतिशत के रियायत पर यात्रा उपलब्ध करायी जायेगी। आगें निगम द्वारा यह भी जानकारी दी गई कि दिव्यांतगजनों के पास निर्गत पूर्व के दिव्यांगता प्रमाण-पत्र, आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र की छाया प्रति साथ-साथ जन्म तिथि का प्रमाणपत्र तथा दो स्टा्म्प आकार का रंगीन फोटो प्राप्त कर प्रमाणपत्र की मूल प्रति मिलान करेगें।

उसके बाद दिव्यांणगजनों को यूनिक संख्या उपलब्ध करायी जायेगी। जिसके आधार पर वह इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे। इसके लिए न्यूननतम 40 प्रतिशत दिव्यांरगता अनिर्वाय है। यह सुविधा जे0पी0 सेनानीयों के लिए भी उपलब्ध होगा।
आगे जानकारी यह भी जानकारी दी गई कि दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम, 2016 की धारा 40 से 46 के तहत दिव्‍यांगजन को बिहार राज्य पथ परिवहन निगम के बस स्टैण्ड तथा बस सुविधा के अनुरूप यह व्यवस्था किया गया है। इसमें बिहार राज्य पथ परिवहन निगम के मुजफ्फरपुर बस पडाव पर ब्रीक सोलिंग है। जिसपर व्हील चेयर से आने-जाने में हो रही कठिनाई को देखते हुए उक्त बस पड़ाव के जीर्णोद्धार की योजना पर निगम विचार कर रही है। तत्काल संबंधित क्षेत्रीय प्रबंधक मुजफ्फरपुर को दिव्यांहगजनों को आने-जाने के मार्ग को समतल एवं सुगम बनाने हेतु निदेश दिया गया है।
निगम के कुल 15 बस पड़ावो का प्रथम फेज में दिव्यांनगजन के प्रतिक्षालय महिला/पुरूष एवं दिव्यांहगजनों के लिए रैम्पम एवं शौचालय आदि के निमार्ण हेतु भवन निमार्ण विभाग, बिहार पटना से इन बसों पड़ावो को डिसेएबल फ्रेंडली बनाने हेतु मानक प्राक्कलन प्राप्त किया गया है। प्राप्त प्राक्कलन के आधार पर इसका प्रशासनिक स्वीकृति विभाग को उपलब्ध कराते हुए तीन माह के अंदर निगम 15 बस पडावों के डिसेएबल फ्रेंडली की सुविधा उपलब्धल कराने हेतु अभियंता प्रमुख-सह-अपर आयुक्तर- सह- विशेष सचिव को भवन निमार्ण से अनुरोध किया गया है।प्राप्त जानकारी के अनुसार निगम के बसों में ऑडियो सिस्टम को ठीक कराने का निदेश दिया गया साथ ही दिव्यांगजनों को बस चढने एवं चिन्हित सीट बैठने हेतु मदद की व्यवस्था की जाए। दिव्यांगजन निगम की बसों को बीच रास्ते में भी अपना पास चालक या संवाहक को दिखा कर बस रूकवा सकते है। इसका महत्वपूर्ण उदेश्य है निगम के बसों को डिसेएबल फ्रेंडली बनाया जाए।

Translate »