Home Blog Page 7

16 परीक्षा केंद्रों पर पांचवें दिन शांतिपूर्ण माहौल में सम्पन्न हुई मैट्रिक परीक्षा

0


सोनभद्र संवाददाता झंझारपुर।बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा 17 फरवरी से संचालित वार्षिक मैट्रिक परीक्षा पांचवें दिन अनुमंडल क्षेत्र में बनाये गये सभी 16 केंद्रों पर कदाचारमुक्त एवं शांतिपूर्ण वातावरण में संपन्न हुई। पांचवें दिन दोनों पालियों में भाषा के तहत हिंदी एवं संस्कृत विषय की परीक्षा ली गयी । कहीं से किसी अप्रिय वारदात की जानकारी नहीं है। पूर्व निर्धारित एवं तय कार्यक्रम के मुताबिक अधिकारियों ने परीक्षा केन्द्रों का औचक निरीक्षण किया। परीक्षा केन्द्रों के इर्दगिर्द वृक्षों की छांव में एवं चाय पानों की दुकान में बैठकर लोग परीक्षा के समाप्त होने का इंतजार करते देखे गए । अनुमंडल मुख्यालय स्थित आदर्श परीक्षा केंद्र प्लस टू पार्वती लक्ष्मी कन्या उच्च विद्यालय की केंद्राधीक्षक इंदु प्रभा ने बताया कि परीक्षा केंद्र पर पहली पाली में 375 एवं दूसरी पाली में 321 छात्राएं परीक्षा में शामिल हुईं हैं । वहीं 10 परीक्षार्थियों ने परीक्षा में भाग नहीं लिया । आदर्श केंद्र के परीक्षा संचालन में उपकेंद्राधीक्षक डॉ अनिल ठाकुर, शिक्षक डॉ संजीव कुमार, प्रेम प्रकाश, तिलक नारायण महतो, अमरनाथ राय, डॉ राजदेव महतो, मोहन कुमार लाल, चंद्रकांत प्रसाद, मुकेश प्रसाद, सत्यनारायण यादव, संतोष राम आदि कर्मी सक्रिय रूप से सहयोग कर रहे थे । सभी केन्द्रों पर दंडाधिकारी के द्वारा विशेष निगरानी रखी जा रही है। एसडीएम शैलेश कुमार चौधरी, डीसीएलआर सुधीर कुमार सिन्हा, कार्यपालक पदाधिकारी नपं अमित कुमार, डीएसपी आशीष आनंद व थानाध्यक्ष चंद्रमणि ने विभिन्न परीक्षा केन्द्रों पर पुलिस बल के साथ निरीक्षण कर रहे थे।

मैट्रिक परीक्षा देकर लौट रहे 5 छात्राओं की सड़क दुर्घटना में मौत,कई घायल

0

पटना । मंगलवार का दिन बिहार वासियों के लिए अमंगल साबित हो रहा है। सुबह जहां बिहार के कटिहार में सड़क हादसे में 6 लोगों की मौत हो गई थी। वहीं दूसरा घटना समस्तीपुर जिले से सामने आ रही है जहां के रोसड़ा में मैट्रिक की परीक्षा देकर लौट रही छात्राएं हादसे का शिकार हुई हैं.समस्तीपुर जिले से सामने आ रही है जहां के रोसड़ा में मैट्रिक की परीक्षा देकर लौट रही छात्राएं हादसे का शिकार हुई हैं। जानकारी के मुताबिक हादसे में पांच छात्राओं की दर्दनाक मौत हो गई है। घटना देर शाम जीरोमाइल के पास स्थित इस्माइल चौक की है  जहां पर स्कॉर्पियो और बस के बीच हुई भीषण टक्कर में पांच छात्राओं की घटनास्थल पर ही मौत हो गई है, सभी छात्राएं मैट्रिक के परीक्षा देकर लौट रही थी, वहीं हादसे में कई अन्य घायलों को अस्पताल भेजा गया है.

65 वर्षीय बुजुर्ग महिला ने अपने हौसले से दी टीबी को मात

0

बीमारी को लेकर अपने परिवार के अलावा समाज के लोगों को कर रही हैं जागरूक
लगातार छह माह तक दवा का सेवन कर टीबी से स्वस्थ हुई, वीएचएआई कार्यकर्ता की रही है मुख्य भूमिका
घर परिवार के साथ समाज ने भी कोई भेदभाव नहीं किया
यक्ष्मा विभाग के द्वारा घोषित किया जाता हैं टीबी चैंपियन:

पूर्णिया। महादलित टोला में रहने वाली 65 वर्षीय कुसुमी देवी की तबियत ख़राब होने के कारण खासे परेशान रहती थीं। क्योंकिं खांसते खांसते कफ़ के साथ ब्लड का आना रुकता नहीं था। विगत 4 वर्षों से बुजुर्ग महादलित महिला खांसी, कफ व कमजोरी से बहुत ज्यादा परेशान रहती थीं लेकिन इलाज कराने के लिए अस्पताल नहीं जाती थी। जिस कारण वह अपनी जिंदगी से ऊब चुकी थी, लेकिन अपने बेटा, बेटी व पतोहू के साथ साथ पोता-पोती के साथ दिन भर रहा करती थी। ताकि किसी तरह दिन कट जाए लेकिन घर वाले किसी तरह से कोई भेदभाव नहीं करते थे। इसी तरह कुसुम देवी का दिन कट रहा था। अचानक एक दिन खांसते खांसते खांसी के साथ खून भी निकलने लगा। जिसे घर परिवार के लोग कृत्यानगर स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाकर बलगम, बीपी, बुखार सहित कई अन्य बीमारियों की जांच के लिए खून एवं एक्सरे का सहारा लिया गया। जांच के बाद पता चला कि टीबी हो गया है। उसके बाद उनके मन में एक डर सा लगने लगा था लेकिन बीमारी से जीतने की उम्मीद भी थी क्योंकि हर बीमारी का इलाज स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों द्वारा किया जाता हैं। अंततः इस लड़ाई में सफलता भी मिलती है। इस नाउम्मीदी के बीच एक उम्मीद की एक किरण दिखाई दी और यह कुसुम देवी ने तय कर लिया कि वह हारेगी नहीं बल्कि इस लड़ाई से जीत कर समाज के प्रति हीनभावना को भी दूर करेंगी। इसी सकारात्मक सोच के साथ नियमित रूप से सरकारी अस्पताल से दवाइयां लेने लगी, जिससे लगातार सेहत में सुधार होने लगा। छह माह तक दवा सेवन के बाद अब वह पूरी तरह से ठीक हो चुकी हैं। अब वह समाज के दूसरे लोगों को भी टीबी सहित कई अन्य बीमारियों से बचाव के लिए जागरूक कर रही हैं।

टीबी जैसी बीमारी से लड़ाई जीतने के बाद दूसरों को कर रही हैं जागरूक:
अमूमन ऐसा देखा जाता है टीबी के मरीज अपनी पीड़ा समाज में बताना नहीं चाहता कि उसे यह बीमारी है। लेकिन दवा खाने के बाद पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद भी वह इतनी हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं कि समाज को बताएं कि उन्होंने कभी टीबी की बीमारी हुई थी लेकिन अब वह स्वस्थ व सुरक्षित हैं। पूर्णिया जिले में ऐसे कई टीबी चैंपियन हैं, जिन्होंने न केवल इस बीमारी को हराया हैं बल्कि वह अब दूसरों को भी जागरूक कर रहे हैं। हम बात कर रहे है पूर्णिया जिले के कृत्या नगर प्रखंड अंतर्गत बेला रिकाबगंज पंचायत के महादलित बस्ती नया टोला निवासी जलथर ऋषि की 65 वर्षीय पत्नी कुसुम देवी की। जिन्होंने लगभग 4 वर्ष पूर्व ही टीबी जैसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हो गई थी। उसका इलाज मात्र एक वर्ष पहले शुरू हुआ और अब वह टीबी को मात देकर अब घर, गांव व अन्य समाज के लोगों को भी जागरूक करने का काम कर रही हैं। अब वह जिससे भी मिलती हैं उसको इस बीमारी के लक्षणों के संबंध में बताती और इलाज के साथ ही खान पान पर भी ध्यान दिलाती हैं। कहती हैं कि खान पान सही हो तो किसी भी तरह की बीमारी से निजात मिल सकती है।

लगातार छह माह तक दवा का सेवन कर टीबी जैसी बीमारी को दी मात:
कुसुम देवी ने बताया -टीबी की बीमारी होने से पहले मुझे किसी तरह की कोई बीमारी नहीं हुई थी। लेकिन कई वर्षों से मुझे हल्का खांसी के साथ कभी कभी खून भी आता था और खासते खासते दम फूलने लगता था। बगल के गांव में रहने वाले वीएचएआई के मुकुल जी आये और नगर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र लेकर गए। वहीं पर हर तरह की जांच कराकर दवा का सेवन करना शुरू किया। बेहतर उपचार के साथ समय पर दवा मिलने लगी। दवा ख़त्म होने के बाद फिर जांच कराई और उसके बाद आज मैं पूरी तरह से ठीक होकर सभी को जागरूक भी कर रही हूं।

वीएचएआई कार्यकर्ता की रही है मुख्य भूमिका:
कुसुम देवी की टीबी की बीमारी से निरोग करने में वीएच ए आई के सामुदायिक कार्यकर्ता मुकुल कुमार चौधरी की भूमिका को भुलाया नहीं जा सकता है। सामुदायिक कार्यकर्ता समय-समय पर कुसुम देवी के घर का दौरा करते रहते और कभी-कभी फोन द्वारा भी हाल समाचार लेते रहते थे। ताकि उन्हें नियमित रूप से दवा का सेवन व अन्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां भी देने का काम करते थे। अगर कोई अन्य समस्या उत्पन्न होती तो सामुदायिक कार्यकर्ता को इसकी जानकारी देने के बाद उसका उपचार सरकारी अस्पताल में जाकर कराती थी।

घर परिवार के साथ समाज ने भी कोई भेदभाव नहीं किया:
कुसुम देवी ने बताया टीबी एक ऐसी बीमारी है जिसके कारण शरीर में कमजोरी की शिकायत हमेशा रहती और उसी को ठीक करने के लिए खान पान पर विशेष ध्यान दिया जाता है। टीबी जैसी बीमारी के कारण स्वास्थ्य पूरी तरह से गिर जाता और वजन भी कम हो जाता है। इसके साथ ही शरीरिक बनावट भी पूरी तरह से बदल जाता है जिसको देखने मात्र से ही यह लगने लगता टीबी की बीमारी से ग्रसित व्यक्ति हैं। किसी भी बीमारी में अपनों की भूमिका अहम होती है। यह वह समय होता है, जब आपको दवा के साथ अपनों की दुआ की जरूरत सबसे ज्यादा होती है। मुझे मेरे परिवार के साथ पड़ोसियों का भी साथ मिला। मेरे परिवार व समाज के लोगों ने मेरे साथ भेदभाव नहीं किया, बल्कि हर समय मेरा साथ दिया और हौसला भी बढाया है। के नगर पीएचसी के चिकित्सा कर्मियों की सलाह पर खाने वाले बर्तन को अलग रखा और कोरोना काल में तो हर कोई अपने आपको दूर रखने का प्रयास किया। घर में रहने पर सामाजिक दूरी के साथ ही मास्क का प्रयोग हर समय करती थी। इसके अलावे समय-समय पर हाथों की सफाई करती रहती थी। टीबी की बीमारी से बचने के लिए मास्क लगाना बहुत ही ज्यादा जरूरी होताहै हैं ताकि मेरे परिवार के किसी सदस्य को यह बीमारी नहीं हो।

यक्ष्मा विभाग के द्वारा घोषित किया जाता हैं टीबी चैंपियन:
टीबी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली संस्था वोलेंटियर हेल्थ एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (वीएचएआई) के जिला समन्वयक नवीन कुमार ने बताया कि यक्ष्मा केंद्र के द्वारा समय-समय पर टीबी जैसी बीमारी से लड़ाई जीतने वाले व्यक्तियों का चयन टीबी चैंपियन के रूप में किया जाता है। लेकिन वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण काल होने के कारण ज़िले में टीबी जैसी गंभीर बीमारी को मात देने वालों की संख्या में कमी आई है। इस तरह की बीमारी वाले लोग कोरोना काल में घर पर रहते हुए संयमित रूप से अपने आपको बचाया और मास्क का प्रयोग बराबर किया है।

132 वीं पुण्यतिथि पर याद किये गए किसान नेता स्व सहजानंद सरस्वती

0

स्व सहजानंद सरस्वती की 132 वीं पूण्यतिथि
स्व सहजानंद सरस्वती की 132 वीं पूण्यतिथि

132 वीं पुण्यतिथि पर याद किये गए किसान नेता स्व सहजानंद सरस्वती

सोनभद्र संवाददाता। रानीपतरा

बिहार के प्रसिद्ध किसान नेता स्वर्गीय सहजानंद सरस्वती की 132 वीं पुण्यतिथि धुमधाम से मनाई गई। इस अवसर पर भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी एवं जिला किसान सभा पूर्णिया द्वारा सर्वोदय आश्रम रानीपतरा में कार्यकर्ताओं के द्वारा एक समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें वर्तमान किसान आंदोलन का पुरजोर समर्थन करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। समारोह को संबोधित करते हुए माकपा के राज्य सचिव अवधेश कुमार ने कहा स्वामीजी ने किसानों के हक की जो लड़ाई बिहार से शुरू की थी वह आज राष्ट्रीय फलक पर नजर आ रहा है। आज देश की सत्ता पर किसान मजदूर छात्र नौजवान की आवाज दबाने वाली कॉरपोरेट परस्त सरकार बैठी है। जो कृषि को भी पूंजीपतियों के हाथों में सौंप देना चाहती है ताकि वह किसानों का उत्पादन कम मूल्य पर खरीद कर आम जनता को लूट कर अपनी तिजोरी भर सके। लेकिन भारत के किसान मजदूर ऐसा नहीं होने देंगे। किसान अपनी लड़ाई तब तक जारी रखेंगे जब तक कि काले कृषि कानूनों को वापस ना ले ले सरकार। इस मौके पर जिला पार्षद और माकपा नेता राजीव कुमार सिंह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में मजदूर किसान छात्र नौजवान सभी परेशान हैं। अर्थव्यवस्था की हालत पतली है। बेरोजगारी महंगाई चरम पर है। पेट्रोल डीजल के दाम रोज बढ़ाए जा रहे हैं। उन्होंने पूछा क्या यही है अच्छे दिन ? जनता की इन मूल समस्याओं से ध्यान हटाने के लिए समाज में विद्वेष फैलाया जाता है और राष्ट्रवाद का नारा लगाया जाता है। उन्होंने देश में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि यह आंदोलन देश के इतिहास में एक नई इबारत लिखेगा। इस मौके पर आने के बाद आने भी अपना अपना विचार प्रकट किया। इस मौके पर समारोह की समाप्ति पर बिहार माकपा के संस्थापक नेता स्वर्गीय गण शंकर विद्यार्थी को नमन करते हुए उपस्थित कॉमरेड ने दो मिनट का मौन रखकर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर कार्यक्रम में काली देवी, सुमित्रा देवी, मोहम्मद मस्तान, रिंकी देवी, कलावती देवी, मोहम्मद सलीम, योगेंद्र ऋषि, छोटू उड़ाव, चंदन उड़ाव, विक्रम ऋषि, शिवनाथ सोरेन सहित सैकड़ों किसान मौजूद थे।

 

किसान सत्याग्रह यात्रा के दौरान पूर्णिया पहुंचे कांग्रेस बिहार प्रभारी, निकला पदयात्रा

0

सोनभद्र संवाददाता, पूर्णिया।

कांग्रेस के बिहार प्रभारी भक्त चरण दास आज पूर्णिया में पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम नीतीश सरकार पर जमकर बरसे। उन्‍होंने भाजपा और बिहार सरकार पर भी देश के किसानों के साथ बिहार में किसानों के शोषण का आरोप लगाया ।बता दे कि किसान सत्याग्रह यात्रा के दौरान बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास पूर्णिया पहुंचे थे। जहां कार्यकर्ताओ के द्वारा पूर्णिया के जीरो माइल में प्रदेश के नेताओं का स्वागत किया गया। आर एन साव चौक पर किसान आंदोलन में मारे गए किसानों को मोमबत्ती जला कर श्रद्धांजली दी गई। जहां कांग्रेस के हजारों कार्यकर्ताओं के द्वारा विशाल किसान झाकी निकाली गई। उसके बाद आर एन साव चौक से कांग्रेस कार्यालय तक एक विशाल पदयात्रा निकाली गई। वहीं यात्रा के दौरान मीडिया को संबोधित  करते हुए भक्त चरण दास ने मोदी सरकार पर  जमकर बरसे हैं ।सरकार ने किसानों की स्थिति मजदूरों से बदतर कर दी है। महज सौ रुपये भी बिहार के किसानों की प्रतिदिन की आय नहीं है। धान खरीदने के बजाए शोषण उत्पीड़न का शिकार बनाया जा रहा है। एमएसपी के नाम पर किसानों के साथ अन्याय किया जा रहा है। बिहार में कहीं भी कृषि आधारित उद्योग को बढ़ावा देने के लिए कोई पहल सरकार नहीं कर रही है।किसान हित में सरकार को तीनों कृषि कानून को वापस लेना चाहिए। बिहार के किसानों के हित में कांग्रेस प्रदेशव्यापी आंदोलन शुरू करेगी। वहीं बिहार सरकार पर गन्ना किसानों के शोषण उत्पीड़न करने का आरोप लगाया। कहा कि बिहार में चार वर्षों से गन्ना समर्थन मूल्य में वृद्धि नहीं की गई। मिलों में पेराई समाप्त होने को है लेकिन गन्ना समर्थन मूल्य घोषित नहीं किया गया।इस मौके पर बिहार प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मदन मोहन झा के अलावा कई एम एल ए, एम एल सी, सांसद, किसान नेता एवं कार्यकर्ता मौजूद थे।

पूर्णिया की बेटी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अपना जलवा बिखेर रही है

0

सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अपनी जलवा बिखेर रही है पूर्णिया खुशकीबाग की 6 वर्ष की बेटी छोटी सिंह

सोनभद्र संवाददाता। रानीपतरा

शेयर चैट, स्नेक वीडियो, मौज जैसी पब्लिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर तरह-तरह की फिल्मी गानों पर वीडियो खूब वायरल हो रहा है। इसमें एक 6 वर्ष की बच्ची परफॉर्म करते नजर आ रही हैं। ये बिहार के पूर्णिया ज़िले के खुशकीबाग स्थित नगर निगम वार्ड 41 की रहने वाली लड़की हैं। खुशकीबाग की वार्ड 41 की रहने वाली शालिनी सिंह 6 वर्षीय की पुत्री छोटी सिंह है। जो अपनी पढ़ाई के साथ साथ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी अपनी कला का जलवा बिखेर रही है और देश विदेश के लोगों की खूब आशीर्वाद के साथ-साथ लाइक बटोर रही है। बतादें कि ये बच्ची पिछले 1 वर्षों से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी प्रतिभा को दिखा रही है। कहते हैं अगर कोई काम को शिद्दत से किया जाए, तो पूरी कायनात सफलता दिलाने के लिए आपके साथ हो लेती है। भोजपुरी, हिंदी और मैथिली गानों पर तरह-तरह की वीडियो बनाकर शेयर कर रही है और जो भी इस वीडियो को देखता है कायल हो जाता है। लाइक और शेयर का सिलसिला जारी है। अब तक इनके वीडियो को 17 लाख फॉलोवर बन चुके हैं। टिकटोक जैसे प्लेट फॉर्म पर एक लाख से ज्यादा फॉलोवर है। इतना ही नहीं इस नन्हे कलाकार छोटी सिंह को मुंबई फिल्म जगत से भी परफॉर्मेंस करने के लिए ऑफर मिल चुके हैं। जिसमें इन्होंने एक भोजपुरी फिल्म में बेटी के रूप में अपना परफॉर्मेंस देकर हाल ही में वापस आई हैं। यह भी बता दूं कि यह छोटे से नन्हे कलाकार छोटी सिंह को बड़े बड़े सुपरस्टार की कॉल भी आ गई है जिसमें भोजपुरी फ़िल्म जगत के मशहूर अभिनेत्री अक्षरा सिंह,अ भिनेता निरहुआ, खेसारी लाल, काजल राघवानी जैसे बहुचर्चित भोजपुरी जगत के और अन्य कई कलाकारों ने भी छोटी सिंह से संपर्क किया है। बतादे कि जिस तरह झारखंड के धनबाद में एक परिवार के सगे भाई बहन ने हाल ही में खूब सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टिक टॉक पर अपना नाम कमाया था। अपनी कला से पूरे देश मैं चर्चा के विषय में रहा था। ठीक उसी तरह पूर्णिया के खुशकीबाग की बेटी भी अपनी कला का जलवा बिखेर रही है और लोगों की खूब आशीर्वाद बटोर रही है।

सोशल मिडिया पर छाया 6 वर्षीय छोटी का जलवा
बीच में बैठी 6 वर्षीय छोठी सिंह, की हो रही पूरे देश में चर्चा

एलपीजी गैस की बढ़ी कीमत, खुद को लुटा महसूस कर रहे लोग

0
एलपीजी की बढ़ी कीमत
पूर्णिया

एलपीजी गैस की बढ़ी कीमत, खुद को लुटा महसूस कर रहे लोग

सोनभद्र संवाददाता। पूर्णिया

महंगाई की मार से परेशान आम जनता को एक के बाद एक बड़ा झटका लगातार दिया जा रहा है। पेट्रोल लगभग 94 रुपये प्रति लीटर और डीजल लगभग 86 रुपये प्रति लीटर के पार होती दिख रही है। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में काफी बढ़ोत्तरी कर दिया गया। जिससे आम जनता पहले से ही काफी सदमें में है। वहीं दूसरी और घरेलू गैस सिलेंडर की कीमत बढ़ाकर सरकार ने जनता के साथ् लुटने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। गैस की कीमत बढ़ने से सबसे ज्यादा परेशानी मध्यम वर्गीय परिवारों के सामने खड़ी हो गई है। जिले में लगभग 870 रुपय गैस की कीमत हो चुकी है। गुरुद्वारा रोड निवासी प्रशांत कुमार मल्लिक ने बताया कि राज्य सरकार हो या केंद्र सरकार जनता को लगातार लुटने में लगी हुई है। उन्होंने बताया कि कोरोना जैसी महामारी के कारण पहले से ही हालत खस्ता है। रोजी रोजगार पर पहले से ही आफत बनी हुई है। उपर से सरकार निवाला भी छीन में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। वहीं अवधेश शर्मा ने बताया कि हमलोग रोज कमाने और खाने वाले आदमी है हमारी आमदनी कभी होती है तो कभी नहीं होती है। बल्कि कभी तो सप्ताह भर तक कमाई नहीं हो पाती है। ऐसे में सरकार जिस पर मुलभूत वस्तुओं की कीमत पर जबरदस्ती टैक्स वसुलने में लगी हुई है उससे से तो लगता है कि सरकार को जनता से कोई लेना देना ही नहीं है। राजस्व के नाम पर जनता को लुटना है। वहीं मुकेश कुमार सिन्हा ने बताया कि राज्य सरकार और केंद्र सरकार अगर अपने मंत्रीयों के खर्चे 70 प्रतिशत कम कर दें तो देश पर आर्थिक बोझ बहुत हद तक कम  हो जाएगा। पुतुल मल्लिक ने बताया कि इसी प्रकार अगर कीमतो में बढ़ती रही तो हमलोगों को जीना मुश्किल हो जाएगा। सरकार को इस पर विचार करना चाहिए। बतादें कि एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमत राज्य द्वारा संचालित तेल कंपनियों द्वारा निर्धारित की जाती है और मासिक आधार पर संशोधित की जाती है। अंतरराष्ट्रीय ईंधन दरों और अमेरिकी डॉलर-रुपये की विनिमय दरों के आधार पर कीमतें ऊपर या नीचे जा सकती हैं। वहीं भारत सरकार वर्तमान में उपभोक्ताओं को घरेलू एलपीजी सिलेंडर की बिक्री पर सब्सिडी प्रदान कर रही है। सिलेंडर खरीदने के बाद सब्सिडी राशि सीधे व्यक्ति के बैंक खाते में जमा हो जाती है।

कुर्सेला में भीषण सड़क हादसे में 6 लोगों की मौत, तीन की हालात गंभीर

0

कुरसेला थाना अंतर्गत कुर्सेला पुल पर मंगलवार की सुबह रफ्तार की कहर कहर मे तेज रफ्तार स्कॉर्पियो और ट्रक की आमने-सामने टक्कर हुई । जिसमे स्कॉर्पियो के परखच्चे उड़ गए । स्कॉर्पियो पर सवार समस्तीपुर जिला के रोसरा गांव निवासी 9 लोग रिश्तेदारी करने के लिए फुलवरिया गांव आए थे । वापस जाने के क्रम में नवगछिया की ओर से आ रही तेज रफ्तार ट्रक और कुर्सेला से नवगछिया की ओर जा रहे स्कॉर्पियो में आमने-सामने टक्कर हो गई ।

जिसमें घटनास्थल पर ही छह लोगों की मृत्यु हो गई । बाकी तीन व्यक्ति को कुरसेला थाना के सहयोग से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कुर्सेला ले जाया गया जहां पर उसे प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए कटिहार  भेज दिया गया है । लगातार राष्ट्रीय राजमार्ग 31 पर सड़क दुर्घटनाएं बढ़ रही है । जिसको लेकर बीते सोमवार के दिन भी सड़क हादसे में 5 लोगों की मौत हुई थी ।

हरे रामा हरे कृष्णा के गुंज पर झुमे लक्ष्मीनगर निवासी

0

सोनभद्र संवाददाता, पूर्णिया ।

हरे रामा हरे कृष्णा के गुंज से गुंजायमान हुआ पूरा लक्ष्मी नगर। बतादें कि शहर के बाघमारा लक्ष्मीनगर में श्री श्री 108अष्टजाम एवं संकीर्तन कार्यक्रम का आयोजन सोमवार लक्ष्मीनगर पूजा समिति के द्वारा गया किया गया। दो दिवसीय चलने वाले अष्टजाम की एवं संकीर्तन का समापन 23 फरवरी को किया जाएगा। संकीर्तन कार्यक्रम में पूरे भक्ति भाव में डुबे भक्तों ने ईश्वर भक्ति का आनंद लिया। इस दौरान लक्ष्मीनगर पूजा समिति द्वारा बताया गया कि इस कार्यक्रम को पूरे 24 घंटे के लिए रखा गया है। जिसमें मधेपुरा, हरदा के कीर्तन मंडली गढ़िया बुलआ के मंडली आ

दि ने भाग लिया। मौके पर श्रीधर सिंह, जयशंकर यादव, विवेकानंद सिंह, पिंटू कुमार, जयशंकर सिंह, मनोज कुमार, प्रवीण सिंह, विकास कुमार, रवि कुमार, अमित कुमार, बिपिन कुमार, राजू कुमार, नीतेश कुमार, डबलू चौधरी आदि ने भाग लिया।

एमवीआर के मुल्य में होगी वृद्धि, राजस्व विभाग कर रहा तैयारी

0
राजस्व विभाग
जिला अवर निबंधन

राजस्व विभाग
जिला अवर निबंधन कार्यालय

आगामी वित्तिय वर्ष में एमवीआर के मुल्य में होगी वृद्धि, राजस्व विभाग कर रहा तैयारी

सोनभ्रद संवाददाता। पूर्णिया

बीते वर्ष कोरोना वेश्विक महामारी को लेकर पूरे देश की अर्थवव्यवस्था ही चरमारा सी गई है। जो अब धीरे धीरे सुधरती नजर आ रही है। हालांकि कोरोना महामारी ने राज्य सरकार को होने वाली आमदनी पूरी तरह से कम हो चुकी थी वहीं राज्य सरकार का खर्च का बोझ भी काफी बढ़ चुका था। जिसके कारण बिहार जैसे पिछड़े राज्य की अर्थवव्यवस्था पूरी तरह से पटरी से उतर चुकी है। उसे ही पटरी पर लाने के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है। बतादें कि बहुत सारे लोग व्यावसायिक जमीन को आवासीय बताकर रजिस्ट्री करा लेते हैं। है जिससे राज्य सरकार को मिलने वाली राजस्व का घाटा होता है। इसी को लेकर प्रमंडलीय एआईजी संजय कुमार ने बताया कि जिला में धारा 47 की सुनवाई को लेकर विभाग अपनी तैयारी में है। वही सभी प्रमंडलों के जिला अवर निबंधन पदाधिकारी से ब्योरा भी मांगा जा रहा है। साथ ही उन्होंने यह भी संकेत दिया है कि आने वाले वित्तिय वर्ष में एमवीआर में मुल्य वृद्धि की पूरी संभावना है। इसे लेकर सभी प्रमंडल के जिला अवर निबंधन पदाधिकारी से जानकारी मांगी जा रही है। बतादें कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में राज्य में निबंधन विभाग द्वारा इस मद में 47 सौ करोड़ रुपये की वसूली का लक्ष्य रखा गया था। वह पूरा नहीं हुआ। वहीं कोरोना को देखते हुए वर्ष 2020-21 में भी 47 सौ करोड़ रुपये का ही लक्ष्य रखा गया। वहीं आगामी वर्ष 2021-21 में 5 हजार करोड़ का लक्ष्य रखा गया है।

 

Translate »